शुक्रवार, 18 जुलाई 2008

Nazm





















जिधर ले चले चलो इतना बता दो पे
कोई मयखाना वां है कि नेस्त

सागर - ओ - मीना कि महफ़िल से जो उठा मैं
मेरे सुखन कि जां रहेगी नेस्त

गर मेरी जिंदगी रवाही रहनें दो पैमाना आगे
भर आया अभी सोज - ऐ - निहां नेस्त

क्या दिखाए बिना मय मजा मंजर का नेस्त
पीता चलूँ फिर सफर बेमजा नेस्त !!!

उत्पल कान्त मिश्रा "नादां"
दिल्ली; जुलाई १६; २००८
२१ :३७ PM

3 टिप्‍पणियां:

sunita ने कहा…

told na.......a creative genius.......by default in marketing....:)

RAMESH KUMAR CHOUBEY ने कहा…

BAH BBHAE BAH BAHUT ACHHI RACHANA HAI

RAMESH KUMAR CHOUBEY ने कहा…

BAH BHAE BAH BAHUT ACHHI RACHANA HAI