शुक्रवार, 15 अगस्त 2008

दास्ताँ - ऐ - जीस्त





Image: think4photop / FreeDigitalPhotos.net










कोई गाँव जलाता है किसी का दिल दहलता है
हयुले में हर एक लेकिन खुदा का नूर लगता है !!!

जमीन पर जो भी आएगा कभी आंसू बहायेगा
जफ़र - ओ - कातिलों में भी मचलता दिल धड़कता है !!!

अजब सी है कहानी ये कहाँ पे ले के जाती है
वहीँ पर जिंदगानी है जहाँ सपना उजड़ता है !!!

तुझे हो क्यों पता "नादां" बशर के दर्द हैं कितनें
कहीं पर चाँद होता है कहीं सूरज निकलता है !!!

उत्पल कान्त मिश्रा "नादां"
अगस्त १४; २००८
२०:२२



10 टिप्‍पणियां:

श्रद्धा जैन ने कहा…

अजब सी है कहानी ये कहाँ पे ले के जाती है
वहीँ पर जिंदगानी है जहाँ सपना उजड़ता है !!!

bhaut bhaut sachhyi liye ehsaas hai dost

रंजन गोरखपुरी ने कहा…

तुझे हो क्यों पता "नादां" बशर के दर्द हैं कितनें
कहीं पर चाँद होता है कहीं सूरज निकलता है !!!


वाह वाह साहब!! हासिल-ए-गज़ल शेर!!!

न जाने कितनी परतें लिया है ये शेर! हर बार पढो तो कुछ और ही बता जाता है!!

sunita ने कहा…

अजब सी है कहानी ये कहाँ पे ले के जाती है
वहीँ पर जिंदगानी है जहाँ सपना उजड़ता है !!!

Kya khub kaha hai aapne.......zindagi ka safar kahan kahan leke jata hai insan ko....:)

phir bhi hum yadoon ke der banake jeete hai.....

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत सुंदर अभिव्यक्ति है !बधाई !!

उत्पल कान्त मिश्रा "नादां" ने कहा…

tahe dil shukriya aap sabon ki hausla aafzai ka ... kalam ko naya mukaam mila :)

योगेन्द्र मौदगिल ने कहा…

achhi rachna...
badhai...

उत्पल कान्त मिश्रा "नादां" ने कहा…

yogendra ji ...

Sadar

Aap sam kavi se badhayee pakar apaar harsh hua ..... asha karta hoon ki apki kripa dristi ham par bani rahegi ...

Purnima ने कहा…

bahut khubsurat hai ...
wakai bahut sahi likha hai aapne

उत्पल कान्त मिश्रा "नादां" ने कहा…

tahe dil shukriya poornima :)

NirjharNeer ने कहा…

अजब सी है कहानी ये कहाँ पे ले के जाती है
वहीँ पर जिंदगानी है जहाँ सपना उजड़ता है !!!

तुझे हो क्यों पता "नादां" बशर के दर्द हैं कितनें
कहीं पर चाँद होता है कहीं सूरज निकलता है !!!


khoobsurat bayangii..jitna vajan hai utni hi gahraaiii..
or us gahraai mein utarkar vo hi likh sakta hai jisne us dard ko jiya ho,
daad hazir hai padhna accha laga aapko